Astro Sandesh

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

10 नवम्बर 2017 आज मार्गशीर्ष महीने के कृष्णपक्ष की सप्तमी तिथि, पुष्य नक्षत्र, शुक्ल योग, बव करण और दिन शुक्रवार है I आज कालभैरवाष्टमी एवं भैरव जयंती है I आज भगवान् महादेव के कष्ट निवारक शत्रुहन्ता, रौद्ररूप काल भैरव जी का जन्मदिवस है. आज संध्या काल में शिवलिंग के आगे या पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाने से भगवान् काल भैरव प्रसन्न होकर प्रबल शत्रु और महा बाधाओं को शांत कर देते हैं. “ॐ कालभैरवाय नमः” इस मन्त्र का 11 बार उच्चारण करके काजल की डिब्बी को अभिमंत्रित कर लें और फिर इसे बच्चों के माथे पर, पुरुषों के बालों में चोटी के स्थान पर और स्त्रियों के आँखों में लगाने से नजर- टोक आदि तो हटती ही है सफलता और विजय भी प्राप्त होती है. अभिमंत्रित करने की विधि: एक शुद्ध एवं नयी काजल की डिब्बी लें उसको खोलें और काजल की खुली हुई डिब्बी सीधे हाथ में रख लें और डिब्बी को देखते हुए मन्त्र का उच्चारण करें. ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

4 नवम्बर 2017 आज कार्तिक महीने के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा तिथि, भरणी नक्षत्र, सिद्धि एवं व्यतिपात योग, बव करण और दिन शनिवार है I आज कार्तिक पूर्णिमा (स्नानदानादि), श्रीगुरुनानक जयंती, भीष्मपंचक व्रत की समाप्ति है I आज पावन कार्तिक मास की अंतिम तिथि पूर्णमासी है, आज के दिन प्रभु स्मरण करना पूरे कार्तिक मास में स्नान- दान- व्रत- पूजन- कीर्तन का फल प्रदान करेगा. अतः आइये पूरे कार्तिक महीने को फलीभूत बनाने के लिए इस मन्त्र का 11 बार उच्चारण करें II श्री हरये नमः II आज सुबह या शाम मंदिर में प्रभु के, तुलसीवृक्ष के, गौ माता के, ब्राह्मण के दर्शन अवश्य करें.  ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

31 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक शुक्लपक्ष, एकादशी तिथि, शतभिषा नक्षत्र, ध्रुव योग, वणिज करण और दिन मंगलवार है I आज श्री हरिप्रबोधिनी (देव उठनी) एकादशी का व्रत और आज से चातुर्मास्य व्रत नियम समाप्त हो गये है I आज से श्री भीष्मपंचक व्रत शुरू हो गये हैं I आज से पांच दिन चलने वाले पवित्र भीष्म पंचक व्रत प्रारम्भ हो रहे है अतः अब अगले पांच दिनों में आपको पवित्र रहना है, मांस- अंडा आदि अपवित्र वस्तु का सेवन नहीं करना है. प्रतिदिन शाम के वक्त 5 दिन तुलसी जी के नाम से एक घी अथवा तेल का दीपक जलाना है. आज भगवान् कृष्ण जी और उनके परम भक्त भीष्म जी का ध्यान एवं स्मरण करते हुए “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” इस पवित्र मन्त्र का 12 बार जाप करें, साक्षात कृष्ण आपकी मनोकामनाओं को पूर्ण करेंगे. नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

29 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक शुक्लपक्ष, नवमी तिथि, धनिष्ठा नक्षत्र, गंड योग, कौलव करण और दिन रविवार है I आज श्री कुष्मांडा (धात्री) नवमी, अक्षय नवमी और आरोग्य व्रत है I आज अक्षय नवमी का पावन पर्व है आज पूरे वर्ष की कुछ श्रेष्ठतम तिथियों में से यह एक है. अक्षय का अर्थ होता है कभी समाप्त न होने वाला, कभी न घटने वाला, दिनों दिन बढ़ने वाला. आज के दिन जो कोई भी आप पूजा- दान- मन्त्र जाप या पाठ आदि करेंगे उसका आपको अनन्त-अनन्त गुणा फल होकार प्राप्त होगा. उठाइए इस पुण्य तिथि का श्रेष्ठ लाभ... गणेश जी को दूर्वा, महालक्ष्मी जी को लाल पुष्प, भगवान विष्णु जी को पीला पुष्प, भगवान् श्रीकृष्ण जी को तुलसी दल और बच्चों के हाथ से गणेश जी को मोदक आदि कुछ भी मीठा समर्पित करें, फिर देखिये कैसे अनंत सौभाग्य का, व्यापार वृद्धि का, विद्या और बुद्धि में परिपूर्णता का, घर में सुख- शांति का, स्त्रियों में सौभाग्य का, परिवार में आरोग्यता का अक्षय आशीर्वाद प्राप्त होता है. आज के दिन भगवान् के मंदिर में जाकर परिक्रमा करने का अनंत- अनत माहात्म्य है अतः परिवार सहित मंदिर जायें और प्रदक्षिणा करें. नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

28 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक शुक्लपक्ष, अष्टमी तिथि, श्रवण नक्षत्र, शूल योग, बव करण, और दिन शनिवार है I आज श्री गोपाष्टमी व्रत है I आज गोपाष्टमी का बड़ा ही पावन दिन है आज ही के दिन से भगवान् ने बछड़ों को चराना शुरू किया था. आज के दिन का बड़ा महत्व है अतः आज के दिन बछड़े बछड़ीयों की पूजा करनी चाहिए, गौओं को चारा डालें. पुष्प- अक्षत- चंदन का गौ माता पर छिडकाव करें, इससे जीवन में बहुत उच्च कोटि के सम्मान की प्राप्ति होती है और आज गौओं की परिक्रमा करने से शुक्र ग्रह सम्बंधित पीड़ा दूर होती है और कुंडली में शुक्र ग्रह के जो शुभ फल प्राप्त होते हैं वह आपको प्राप्त होंगे. नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

26 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक शुक्लपक्ष, षष्ठी तिथि, पूर्वाषाढा नक्षत्र, सुकर्मा योग, तैतिल करण और दिन गुरुवार है I आज सूर्य षष्ठी पर्व और छठ पूजा है I आज भगवान् सूर्य नारायण के पूजन का महापर्व है I सूर्य को जल चढ़ाकर “घृणि सूर्याय नमः” इस महामंत्र का 108 बार जाप करें I तेज, आरोग्य एवं सफलता के महानायक भगवान् सूर्य प्रसन्न होंगे I नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

Read more...

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

23 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक शुक्लपक्ष, चतुर्थी तिथि, अनुराधा नक्षत्र, सौभाग्य योग, वणिज करण और दिन सोमवार है I आज श्री दूर्वा गणपति व्रत और आज से हेमन्त ऋतु का आगमन है I आज दूर्वा गणपति व्रत का श्रेष्ठतम पर्व है आज के दिन सफेद तिल या चावल सहित दूर्वा गणपति भगवान् जी को अर्पित करें. दूर्वा चढाने से श्रेष्ठम वंश की वृद्धि, संतानों को सद्बुद्धि और कामों में आने वाली अडचनें दूर होती हैं I आज के दिन चढ़ाई हुई दूर्वा को कल यानी पंचमी वाले दिन किसी कागज़ या कपडे में बांध के अपने घर में पैसे/ खजाने रखने के स्थान में रखें इससे कई प्रकार से धन में बरकत होगी I नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

Read more...