Astro Sandesh

10 नवम्बर 2017

आज मार्गशीर्ष महीने के कृष्णपक्ष की सप्तमी तिथि, पुष्य नक्षत्र, शुक्ल योग, बव करण और दिन शुक्रवार है I आज कालभैरवाष्टमी एवं भैरव जयंती है I

आज भगवान् महादेव के कष्ट निवारक शत्रुहन्ता, रौद्ररूप काल भैरव जी का जन्मदिवस है. आज संध्या काल में शिवलिंग के आगे या पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाने से भगवान् काल भैरव प्रसन्न होकर प्रबल शत्रु और महा बाधाओं को शांत कर देते हैं. “ॐ कालभैरवाय नमः” इस मन्त्र का 11 बार उच्चारण करके काजल की डिब्बी को अभिमंत्रित कर लें और फिर इसे बच्चों के माथे पर, पुरुषों के बालों में चोटी के स्थान पर और स्त्रियों के आँखों में लगाने से नजर- टोक आदि तो हटती ही है सफलता और विजय भी प्राप्त होती है.

अभिमंत्रित करने की विधि: एक शुद्ध एवं नयी काजल की डिब्बी लें उसको खोलें और काजल की खुली हुई डिब्बी सीधे हाथ में रख लें और डिब्बी को देखते हुए मन्त्र का उच्चारण करें.