Vivah Muhurt

2017 के गृह प्रवेश मुहूर्त

दिनांक

मुहूर्त का समय नक्षत्र नाम तिथि
01st Feb (बुधवार)07:10To26:20+उ०भा०, रेवतीपंचमी
06th Feb (सोमवार)07:08To31:07+रोहिणी, मृगशिरादशमी, एकादशी
13th Feb (सोमवार)08:59To28:56+उ०फा०तृतीया
15th Feb (बुधवार)11:32To31:02+चित्रापंचमी
01st Mar (बुधवार)06:52To15:17रेवतीतृतीया
04th Mar (शनिवार)22:29To30:07+रोहिणीसप्तमी
13th Mar (सोमवार)06:41To18:42उ०फा०प्रतिपदा
15th Mar (बुधवार)06:39To22:11चित्रातृतीया
22nd Mar (बुधवार)14:07To30:31+उ०षा०दशमी
23rd Mar (वीरवार)06:31To15:47उ०षा०दशमी, एकादशी
28th Apr (शुक्रवार)13:39To29:58+रोहिणीतृतीया
06th May (शनिवार)06:09To20:30उ०फा०एकादशी
08th May (सोमवार)09:44To23:16चित्रात्रयोदशी
11th May (वीरवार)17:19To29:51+अनुराधाप्रतिपदा
12th May (शुक्रवार)05:51To20:13अनुराधाद्वितीया
22nd May (सोमवार)05:46To14:43उ०भा०, रेवतीएकादशी
26th May (शुक्रवार)21:18To29:45+मृगशिराद्वितीया
27th May (शनिवार)05:45To18:08मृगशिराद्वितीया
03rd Jun (शनिवार)06:51To13:27उ०फा०दशमी
12th Jun (सोमवार)10:51To25:18+उ०षा०तृतीया
19th Jun (सोमवार)05:45To17:27रेवतीदशमी
13th Nov (सोमवार)11:51To30:43+उ०फा०एकादशी
23rd Nov (वीरवार)06:59To29:34+उ०षा०पंचमी

2017 के प्रॉपर्टी क्रय मुहूर्त

दिनांक मुहूर्त का समय नक्षत्र नाम तिथि
05th Jan (वीरवार)16:45To31:13+रेवतीअष्टमी
06th Jan (शुक्रवार)07:13To15:45रेवतीअष्टमी, नवमी
12th Jan (वीरवार)07:14To25:20+पुनर्वसुपूर्णिमा, प्रतिपदा
13th Jan (शुक्रवार)23:50To31:14+आश्लेषाद्वितीया
26th Jan (वीरवार)07:12To20:32पू०षा०चतुर्दशी
02nd Feb (वीरवार)07:10To21:11रेवतीषष्ठी
10th Feb (शुक्रवार)09:40To30:02+आश्लेषापूर्णिमा
17th Feb (शुक्रवार)16:18To31:01+विशाखासप्तमी
09th Mar (वीरवार)17:12To30:44+आश्लेषाद्वादशी, त्रयोदशी
10th Mar (शुक्रवार)06:44To30:43+आश्लेषा, मघात्रयोदशी, चतुर्दशी
16th Mar (वीरवार)24:35+To30:37+विशाखापंचमी
17th Mar (शुक्रवार)06:37To30:36+विशाखा, अनुराधापंचमी, षष्ठी
06th Apr (वीरवार)06:18To30:17+आश्लेषा, मघादशमी, एकादशी
07th Apr (शुक्रवार)06:17To30:16+मघा, पू०फा०एकादशी, द्वादशी
13th Apr (वीरवार)08:06To30:10+विशाखाद्वितीया, तृतीया
14th Apr (शुक्रवार)06:10To30:10+विशाखा, अनुराधातृतीया, चतुर्थी
04th May (वीरवार)05:55To29:54+मघानवमी, दशमी
05th May (शुक्रवार)05:54To29:54+पू०फा०दशमी, एकादशी
11th May (वीरवार)05:51To29:51+विशाखा, अनुराधाप्रतिपदा
12th May (शुक्रवार)05:51To20:13अनुराधाद्वितीया
26th May (शुक्रवार)21:05To29:45+मृगशिराद्वितीया
01st Jun (वीरवार)05:44To29:44+मघा, पू०फा०अष्टमी
02nd Jun (शुक्रवार)05:44To12:01पू०फा०नवमी
08th Jun (वीरवार)05:44To26:15+अनुराधाचतुर्दशी, पूर्णिमा
16th Jun (शुक्रवार)18:22To29:45+पू०भा०सप्तमी
23rd Jun (शुक्रवार)07:49To28:49+मृगशिराचतुर्दशी, अमावस्या
29th Jun (वीरवार)05:48To19:24पू०फा०षष्ठी, सप्तमी
07th Jul (शुक्रवार)11:21To29:51+मूलचतुर्दशी
13th Jul (वीरवार)24:00+To29:53+पू०भा०पंचमी
14th Jul (शुक्रवार)05:53To24:41+पू०भा०पंचमी, षष्ठी
20th Jul (वीरवार)17:25To29:56+मृगशिराद्वादशी, त्रयोदशी
21st Jul (शुक्रवार)05:56To14:53मृगशिरात्रयोदशी
03rd Aug (वीरवार)18:13To30:02+मूलद्वादशी
04th Aug (शुक्रवार)06:02To30:02+मूल, पू०षा०द्वादशी, त्रयोदशी
10th Aug (वीरवार)06:04To30:05+पू०भा०तृतीया, चतुर्थी
17th Aug (वीरवार)06:07To22:59मृगशिरादशमी, एकादशी
18th Aug (शुक्रवार)21:04To30:08+पुनर्वसुद्वादशी
31st Aug (वीरवार)06:12To30:12+मूल, पू०षा०दशमी
01st Sep (शुक्रवार)06:12To30:13+पू०षा०दशमी, एकादशी
07th Sep (वीरवार)06:14To12:58पू०भा०प्रतिपदा, द्वितीया
08th Sep (शुक्रवार)12:31To30:15+रेवतीतृतीया
15th Sep (शुक्रवार)06:16To26:16+पुनर्वसुदशमी, एकादशी
28th Sep (वीरवार)06:21To30:21+मूल, पू०षा०अष्टमी, नवमी
29th Sep (शुक्रवार)06:21To15:48पू०षा०नवमी
05th Oct (वीरवार)20:50To30:23+रेवतीपूर्णिमा, प्रतिपदा
06th Oct (शुक्रवार)06:23To19:31रेवतीप्रतिपदा
12th Oct (वीरवार)08:58To28:59+पुनर्वसुअष्टमी
26th Oct (वीरवार)06:32To23:52पू०षा०षष्ठी, सप्तमी
02nd Nov (वीरवार)06:56To29:29+रेवतीत्रयोदशी, चतुर्दशी
09th Nov (वीरवार)06:40To13:39पुनर्वसुषष्ठी
10th Nov (शुक्रवार)12:26To30:41+आश्लेषासप्तमी, अष्टमी
17th Nov (शुक्रवार)17:11To30:46+विशाखाअमावस्या
30th Nov (वीरवार)06:54To16:13रेवतीएकादशी, द्वादशी
07th Dec (वीरवार)19:54To28:44+आश्लेषापंचमी
08th Dec (शुक्रवार)07:00To31:00+आश्लेषा, मघाषष्ठी, सप्तमी
14th Dec (वीरवार)23:05To31:04+विशाखाद्वादशी, त्रयोदशी
15th Dec (शुक्रवार)07:04To31:05+विशाखा, अनुराधात्रयोदशी

2017 के वाहन क्रय मुहूर्त

दिनांक मुहूर्त का समय नक्षत्र नाम तिथि
01st Jan (रविवार)07:12To15:33श्रवणतृतीया
02nd Jan (सोमवार)15:50To31:12+धनिष्ठा, शतभिषापंचमी
05th Jan (वीरवार)16:45To31:13+रेवतीअष्टमी
06th Jan (शुक्रवार)07:13To12:25रेवतीअष्टमी
12th Jan (वीरवार)07:14To31:14+पुनर्वसु, पुष्यपूर्णिमा, प्रतिपदा
13th Jan (शुक्रवार)07:14To14:40पुष्यप्रतिपदा
18th Jan (बुधवार)07:14To12:48हस्तषष्ठी
19th Jan (वीरवार)14:37To31:14+चित्रा, स्वातिअष्टमी
20th Jan (शुक्रवार)07:14To16:54स्वातिअष्टमी
22nd Jan (रविवार)11:03To31:13+अनुराधादशमी, एकादशी
23rd Jan (सोमवार)07:13To13:57अनुराधाएकादशी
30th Jan (सोमवार)07:11To23:05शतभिषातृतीया
01st Feb (बुधवार)22:07To31:10+रेवतीपंचमी, षष्ठी
02nd Feb (वीरवार)07:10To21:11रेवतीषष्ठी
05th Feb (रविवार)18:29To31:08+रोहिणीदशमी
06th Feb (सोमवार)07:08To31:07+रोहिणी, मृगशिरादशमी, एकादशी
08th Feb (बुधवार)12:14To31:06+पुनर्वसुत्रयोदशी
15th Feb (बुधवार)07:03To31:02+हस्त, चित्रापंचमी
16th Feb (वीरवार)07:02To31:01+चित्रा, स्वातिषष्ठी
19th Feb (रविवार)07:00To14:17अनुराधाअष्टमी
24th Feb (शुक्रवार)06:56To21:38श्रवणत्रयोदशी
01st Mar (बुधवार)06:52To15:17रेवतीतृतीया
05th Mar (रविवार)06:48To27:59+रोहिणी, मृगशिराअष्टमी
08th Mar (बुधवार)06:46To22:49पुनर्वसु, पुष्यएकादशी
15th Mar (बुधवार)06:39To23:17चित्रा, स्वातितृतीया
23rd Mar (वीरवार)15:47To30:30+श्रवणएकादशी
24th Mar (शुक्रवार)06:30To13:53श्रवणएकादशी
26th Mar (रविवार)06:28To12:29शतभिषात्रयोदशी
02nd Apr (रविवार)06:22To15:16मृगशिराषष्ठी
05th Apr (बुधवार)10:03To22:52पुष्यदशमी
10th Apr (सोमवार)10:22To30:13+हस्त, चित्रापूर्णिमा
12th Apr (बुधवार)06:12To13:14स्वातिप्रतिपदा
14th Apr (शुक्रवार)10:47To17:23अनुराधातृतीया
21st Apr (शुक्रवार)06:05To30:04+धनिष्ठा, शतभिषादशमी, एकादशी
28th Apr (शुक्रवार)13:39To29:58+रोहिणीतृतीया
01st May (सोमवार)06:37To22:31पुनर्वसुषष्ठी
08th May (सोमवार)05:53To23:16हस्त, चित्रात्रयोदशी
10th May (बुधवार)05:52To14:35स्वातिपूर्णिमा
11th May (वीरवार)17:19To29:28+अनुराधाप्रतिपदा
17th May (बुधवार)07:26To16:31श्रवणषष्ठी
18th May (वीरवार)17:42To29:48+धनिष्ठाअष्टमी
19th May (शुक्रवार)05:48To18:11धनिष्ठा, शतभिषाअष्टमी
22nd May (सोमवार)10:10To14:43रेवतीएकादशी
29th May (सोमवार)11:07To29:45+पुनर्वसु, पुष्यपंचमी
04th Jun (रविवार)05:44To29:44+हस्त, चित्रादशमी, एकादशी
08th Jun (वीरवार)16:16To26:15+अनुराधापूर्णिमा
14th Jun (बुधवार)05:44To29:44+श्रवण, धनिष्ठापंचमी, षष्ठी
15th Jun (वीरवार)05:44To29:08+धनिष्ठा, शतभिषाषष्ठी
19th Jun (सोमवार)05:45To17:27रेवतीदशमी
22nd Jun (वीरवार)10:45To15:38रोहिणीत्रयोदशी
26th Jun (सोमवार)05:47To21:23पुष्यतृतीया
30th Jun (शुक्रवार)20:16To29:48+हस्तअष्टमी
02nd Jul (रविवार)20:19To29:49+चित्रा, स्वातिदशमी
03rd Jul (सोमवार)05:49To26:36+स्वातिदशमी, एकादशी
12th Jul (बुधवार)05:52To14:03धनिष्ठातृतीया
13th Jul (वीरवार)14:44To24:00+शतभिषापंचमी
16th Jul (रविवार)13:37To24:20+रेवतीअष्टमी
19th Jul (बुधवार)19:45To28:27+रोहिणीएकादशी
21st Jul (शुक्रवार)05:56To14:53मृगशिरात्रयोदशी
28th Jul (शुक्रवार)05:59To29:59+हस्तषष्ठी
30th Jul (रविवार)08:06To30:00+स्वातिअष्टमी
02nd Aug (बुधवार)06:01To15:16अनुराधादशमी, एकादशी
07th Aug (सोमवार)06:03To30:04+श्रवण, धनिष्ठापूर्णिमा, प्रतिपदा
16th Aug (बुधवार)15:17To30:07+रोहिणी, मृगशिरादशमी
17th Aug (वीरवार)06:07To22:59मृगशिरादशमी, एकादशी
24th Aug (वीरवार)14:01To20:27हस्ततृतीया
25th Aug (शुक्रवार)20:31To30:10+चित्रापंचमी
27th Aug (रविवार)06:11To17:45स्वातिषष्ठी
03rd Sep (रविवार)11:12To30:13+श्रवणत्रयोदशी
04th Sep (सोमवार)06:13To12:14श्रवणत्रयोदशी
06th Sep (बुधवार)06:14To12:57शतभिषापूर्णिमा
22nd Sep (शुक्रवार)10:41To30:19+चित्रा, स्वातितृतीया
25th Sep (सोमवार)06:20To30:20+अनुराधापंचमी, षष्ठी
01st Oct (रविवार)06:22To26:44+श्रवण, धनिष्ठाएकादशी
05th Oct (वीरवार)20:50To30:23+रेवतीपूर्णिमा, प्रतिपदा
06th Oct (शुक्रवार)06:23To19:31रेवतीप्रतिपदा
09th Oct (सोमवार)14:16To30:25+रोहिणीपंचमी
12th Oct (वीरवार)08:58To28:59+पुनर्वसुअष्टमी
22nd Oct (रविवार)12:23To28:51+अनुराधातृतीया
29th Oct (रविवार)18:20To30:34+धनिष्ठादशमी
30th Oct (सोमवार)06:34To30:35+शतभिषादशमी, एकादशी
02nd Nov (वीरवार)06:56To16:11रेवतीत्रयोदशी
06th Nov (सोमवार)06:38To24:58+रोहिणी, मृगशिरातृतीया
08th Nov (बुधवार)15:22To30:40+पुनर्वसुपंचमी, षष्ठी
09th Nov (वीरवार)06:40To16:41पुनर्वसु, पुष्यषष्ठी
15th Nov (बुधवार)13:10To30:45+चित्रात्रयोदशी
16th Nov (वीरवार)06:45To14:09चित्रात्रयोदशी
24th Nov (शुक्रवार)10:03To30:51+श्रवणषष्ठी
26th Nov (रविवार)09:50To30:52+धनिष्ठा, शतभिषाअष्टमी
27th Nov (सोमवार)06:52To11:02शतभिषाअष्टमी
29th Nov (बुधवार)17:13To30:54+रेवतीएकादशी
03rd Dec (रविवार)09:21To30:22+रोहिणीपूर्णिमा, प्रतिपदा
04th Dec (सोमवार)06:57To17:29मृगशिराप्रतिपदा
07th Dec (वीरवार)07:15To19:54पुष्यपंचमी
13th Dec (बुधवार)07:03To27:25+चित्रा, स्वातिएकादशी
24th Dec (रविवार)07:09To23:46शतभिषाषष्ठी
31st Dec (रविवार)07:11To15:28रोहिणीत्रयोदशी

Our Products

Astro Sandesh

19 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक कृष्णपक्ष, अमावस तिथि, हस्त नक्षत्र, वैधृति, योग, चतुष्पद करण और दिन वीरवार है I आज श्री दीपावली पूजन एवं श्री महालक्ष्मी पूजन एवं कुबेर पूजन है I आज कार्तिक अमावस के प्रदोष काल अर्थात् संध्याकाल में घर के बाहर-भीतर, चौराहे पर, तुलसीवृक्ष, गौशाला, मंदिर आदि समस्त पवित्र स्थलों में दीपक जलाकर कण-कण में व्याप्त ऐश्वर्य और अवसर रूपी महालक्ष्मी को घर में बुलाने की प्रार्थना करें. रात्री को पूजन काल में पंचामृत, रोली-मौली-धूप-दीप-मिष्ठान-मीठा पान-नानाविध पुष्पों आदि से महालक्ष्मी जी की पूजा आरती करें. दीपावली पूजन का शुभ समय -- ·         दूकान, फैक्ट्री या व्यवसायिक संस्थान के लिए :- 05:25 PM से 07:57 PM तक                      ·         घर के लिए :- स्थिर लग्न में महालक्ष्मी का पूजन सर्वोत्तम माना गया है. यह लग्न समय रहेगा- 07:13 PM से 09:08 PM तक इस समय वृष लग्न, विशाखा नक्षत्र तथा तुला राशि में सूर्य और चन्द्र दोनों विराजमान रहेंगे. तत्पश्चात प्रदोषकाल अर्थात सांयकाल 05:45 PM से 08:18 PM तक इस योग में दीपदान, श्री महालक्ष्मी पूजन, कुबेर पूजन, बहीखाता पूजन, अन्न- धन का पूजन, घर- बाहर- मंदिर आदि का दीप प्रज्वलित, दान करना, मिठाई आदि बांटना शुभ रहेगा. इसके बाद पूजन के लिए अमृत काल 04:21 PM से 8:57 PM तक है, यह भी शुभ है. महानिशीध काल हर प्रकार की मन्त्रसिद्धि, विशेष पूजन, उपासनाएं, काली आदि तंत्र साधनाएं, प्रयोग एवं लक्ष्मी साधनाओं के लिए यह कालघडी सर्वोत्तम मानी जाती है, हर तंत्रमन्त्र इस समय में जागृत अवस्था में रहेंगे I अतः यह समय सर्वोत्तम समय है I यह समय है 11:43 PM से 12:34 AM तक ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

18 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक कृष्णपक्ष, चतुर्दशी तिथि, उतरा फाल्गुनी नक्षत्र, ऐन्द्र योग, विकल करण और दिन बुधवार है | आज नरक चतुर्दशी (नरक चौदस अथवा रूप चौदस) एवं श्री हनुमान जयंती है | आज नरक चौदस है अतः आज के दिन बिजली, अग्नि, भूकंप, जलपीडा आदि से अकाल मृत्यु को प्राप्त हुए मृतकों की शान्ति के लिए चार मुख वाले दीपक को प्रज्वलित करके यथाशक्ति दान करें. सांयकाल को दक्षिण की तरफ मुख करके पीपल को तिल-कुश मिला जल चढायें और सरसों के तेल का दीपक जलाएं. आज हनुमान जयंती के पावन दिन पर लहू केलेफल और दीपक अर्पण करके हनुमान जी को प्रसन्न करें. नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

17 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक कृष्णपक्ष, त्र्योदशी तिथि, उतरा फाल्गुनी नक्षत्र, ब्रह्मा योग, गर करण और दिन मंगलवार है I आज धन त्र्योदशी, भौम प्रदोष, कार्तिक संक्रांति, धन्वंतरी जयंती और यम दीप दान है I आज धनतेरस के दिन अपने भवन के मुख्य द्वार पर सांयकाल में यमराज को दीप और नैवेद्य समर्पित करते हुए यह प्रार्थना करें कि हमारे घर में किसी प्रकार का कोई रोग और कष्ट न हो और निम्न मन्त्र का 3 बार उच्चारण करें ऐसा करने से अकाल मृत्यु का कभी भय नहीं होता है- मृत्युना पाशदंडाभ्याम् कालेन च मया सह I  त्रयोदश्यां दीपदानात् सूर्यजः प्रीयतामिति II त्रयोदशी को दीपदान करने से मृत्यु, पाश, दंड, काल और लक्ष्मी के साथ- साथ सूर्यनंदन यम प्रसन्न होते हैं I इस दिन सोना-चांदी या अन्य धातु की वस्तुएं, बर्तन आदि खरीदना शुभ होता है I इस दिन स्वास्थ्य के देवता धन्वन्तरी का आवाहन अवश्य करना चाहिए I इस दिन तुलसी, आंवला, हरड, बहेड़ा आदि की पूजा करने से निरोगी काया प्राप्त होती है I आज सांयकाल में सरसों के तेल का दीपक जलाकर पूरे घर से घुमाकर घर के बाहर अथवा छत पर दक्षिण की तरफ मुख करके रखें और “यमराजाय नमः” का 5 बार उच्चारण करें I इससे घर में अकाल मृत्यु का भय नहीं रहेगा I नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

16 अक्तूबर 2017 आज कार्तिक कृष्णपक्ष, द्वादशी तिथि, पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र, शुक्ल योग, कौलव करण और दिन सोमवार है I आज श्री गोवत्स द्वादशी है I आज के दिन प्रातःकाल में भगवान् कृष्ण जी के चरणों में 5 तुलसी के पत्ते अर्पित करें और सांयकाल में गौ के छोटे बछड़े- बछ्डियों को चारा इत्यादि डालकर उनका स्पर्श करें I इससे भगवान् कृष्ण की कृपा प्राप्त होगी और प्रारब्ध का प्रबल वेग मिटेगा I नोट:- आध्यात्मिक लाभ को देने वाला एवं श्री हरि जी को प्रसन्न करने वाला परम पवित्र कार्तिक मास चल रहा है और आपके चहेते MGuru में रोजाना कार्तिक मास माहात्म्य की कथा चल रही है, रोजाना इसे पढना न भूलें अर्थात् इस कथा को जरुर पढ़ें और परिवार को भी सुनायें I  ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि

28 सितम्बर 2017 आज आश्विन महीने के शुक्लपक्ष की अष्टमी तिथि, मूल नक्षत्र, सौभाग्य योग, विष्टि करण और दिन गुरुवार है I आज श्रीदुर्गाष्टमी और महाष्टमी है I करुणामयी माँ के नौ रूपों में सबसे सुन्दर, सर्वाधिक दयामयी, तप करने में इतनी कठोर की भगवान् शिव का भी जिन्होंने दिल जीत लिया, मन जिनका मक्खन से भी जल्दी पिघलने वाला है, उन सौम्यरूपा महागौरी नामकी माता को समर्पित आज आठवां नवरात्रा है, पिछले दिनों में यदि पूजा- आराधना ना हो पाई हो, कोई व्रत में त्रुटि रह गयी हो या अशक्त होने के कारण विधि- व्रत- नियम का परिपालन ना कर पाये हों तो आज महागौरी माँ के आशीर्वाद से पूरी नौरात्री का फल पा सकते हैं वो भी इस सरल किन्तु फल में श्रेष्ठ उपाय से------ नौ फूल (लाल हों तो अति श्रेष्ठ), रोली में रंगे लाल चावल, श्रृंगार की सामग्री (चूड़ी- बिंदी- चुनरी आदि), 9 सिक्के 1-1 रु० के, 1 लालफल ये सब थाली या प्लेट में रखकर इस मन्त्र का 1 बार सर्वमङ्गल माङ्गल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके । शरण्ये त्र्यंम्बके गौरि नारायणि नमोस्तु ते ॥ और ॐ महागौर्यै नमः का 9 बार उच्चारण करते हुए जगन्माता दुर्गा जी के कमल से कोमल और सुन्दर चरणों में अर्पित कर दीजिये I II जय माता दी II ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि