Astro Product 0

Shukra Yantra

Rs. 150

Size : 0

Shukra Yantra

Shukra Yantra is a very powerful geometric pattern of energy that revamps your life style. It helps you attract the essential riches of life, the most earned love, peace and honorable respect.
Venus/Shukra rules all the materialistic pleasures of the world; when Venus energizes you with positive energy, you will be relieved from financial crunches, relationship problems and what not!

Benefits

1.       When Venus is malefic in your Birth Chart, the Venus yantra will work in your favor.

2.       This sacred energy device attracts the best things of life towards you.

3.       The Yantra spreads its positive energy around you.

4.       The Yantra brings success in all the efforts of your life.

5.       People involved in the artistic world, media, films, theater and arts or music world derive the most benefit from it.

6.       For improvements in love affair, married life, cooperation from opposite sex, luxuries this yantra is ideal.

How to Use

Place the Yantra facing the East or the North in a clean and sacred altar.Do not let other people touch the Yantra.Periodically wash the Yantra with rose water or milk. Then, rinse it with water and wipe it to dry. The Yantra’s color may change over a period of time; however this does not dilute the power of the Yantra.Place rounded dots of sandalwood paste on the 4 corners and in the center of the Yantra.
Light a candle or ghee lamp and an incense stick in front of the Yantra. You can offer fresh or dry fruits as Prasad, as well.
Chant the Mantra above in front of the Yantra, preferably after showering.

Mantra:ॐ द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राय नमः” I

Shukra Yantra adds glory to the lives of:

1.       Creative people.

2.       Those who crave for a good love life.

3.       People who want to attract money and wealth.

4.       People who want to stay in a white collared job throughout their lives.

5.       Partners who have problems in their love life.

6.       People who wish to grow in material comforts.

7.       People who seek to dress better and improve beauty in all areas of their life.

8.       People who desire happiness regardless of circumstances.

9.       People who wish to deepen their devotion to God.

10.    People who wish to increase their connection to any form of artistic expression or enjoyment of the arts.

11.    People who wish to increase their skills at negotiation and diplomacy.

12.    People who want to be more conscious in making decisions about their time, money and energy and get better value for them.

Qty.

Astro Sandesh

23 सितम्बर 2018 आज भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि, शतभिषा नक्षत्र, शूल योग, गर करण और दिन रविवार है । आज अनन्त चतुर्दशी व्रत और कदली व्रत है I आज पूरे वर्ष की सर्वश्रेष्ठ चतुर्दशी है जिसे अनन्त चतुर्दशी कहते हैं I आज के दिन कोई भी शुभ कर्म करना, किसी भी शुभ वस्तु की खरीदारी करना, भगवान् विष्णु के निमित्त फल, फूल, तुलसीदल आदि पवित्र वस्तुओं का अर्चन करना, उनके निमित्त विष्णु सहस्रनाम आदि का पाठ करना, व्रतादि रखना, किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करना ये अनन्त- अनन्त गुणा फल देने वाले हैं I अतः आज के दिन अधिक से अधिक भगवान् श्री विष्णु के अनंत नामक स्वरुप का ध्यान करें और “ॐ अनंताय नमः” मन्त्र को बोलते हुए 18 तुलसी पत्र भगवान् विष्णु को अर्पित करें I पापों को जीवन से दूर भागने के लिए और पुण्यों का अर्जन करने के लिय इससे बढ़कर कोई तिथि नहीं है I ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा विधि

17 सितम्बर 2018 आज भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की अष्टमी तिथि, मूल नक्षत्र, आयुष्मान योग, बव करण और दिन सोमवार है । आज आश्विन संक्रांति, श्रीराधाष्टमी, श्रीमहालक्ष्मी व्रत प्रारम्भ, दधीची जयन्ती और विश्वकर्मा पूजन है I पिछले पक्ष की अष्टमी को भगवान् कृष्ण जी पैदा हुए थे उनकी सेवा के लिए उनसे अद्भुत प्रेम धर्म निभाने के लिए राधा जी भी आज अवतार ले रही हैं I आज के दिन राधाकृष्ण जी की फोटो पर एक संयुक्त माला चढायें, किसी पवित्र मौली आदि धागे से उनको बाँध दें, इससे राधा जी प्रसन्न होंगी और कान्हा जी का आशीर्वाद दिलाएंगी I संभव हो तो कान्हा जी के लिए माखन मिश्री का और राधा जी को केसर युक्त मिठाई का भोग लगायें I भगवान् राधाकृष्ण जी से विशेष प्रेम और स्नेह रखने वाले भक्तगण इस दिन व्रत भी रखते हैं I चूँकि आज से श्रीमहालक्ष्मी व्रत भी प्रारम्भ हो रहे हैं अतः आज के दिन दही में कुछ मीठा जैसे चीनी या मिश्री मिलाकर महालक्ष्मी जी को भोग लगायें और फिर सब लोग 1-1 चम्मच प्रसाद रूप में ग्रहण करें जिससे:- स्त्रियों में सौभाग्य और सौन्दर्य पुरुषों में बल और ऐश्वर्य घर में संतान और संपत्ति बच्चों में बुद्धि और विद्या बेरोजगारों को रोजगार की प्राप्ति होगी ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा विधि

15 सितम्बर 2018 आज भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की षष्ठी तिथि, अनुराधा नक्षत्र, विष्कुम्भ योग, तैतिल करण और दिन शनिवार है । आज सूर्य षष्ठी व्रत है I आज के दिन 1 तांबे के लौटे में शुद्ध जल, लाल फूल, शक्कर, मौली का 1 टुकड़ा, गेहूं या जौं के 7 दाने डालकर “ॐ भगवते महासूर्याय रोगनाशनाय नमः” इस मंत्र का उच्चारण करते हुए धीरे- धीरे और श्रद्धापूर्वक सूर्य भगवान को जल अर्पित करें। आज के दिन व्रत रखकर संध्याकाल में गेहूं का मीठा अन्न ग्रहण करने से कोढ़ आदि महा भयानक और असाध्य बीमारियाँ भी जीवन से नष्ट होने लगती हैं। रोगी व्यक्तियों को यह व्रत जरूर रखना चाहिए। ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा विधि

14 सितम्बर 2018 आज भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की पंचमी तिथि, विशाखा नक्षत्र, वैधृति योग, बालव करण और दिन शुक्रवार है । आज ऋषि-पंचमी पर्व और संवत्सरी महापर्व (जैन) है I आज ऋषि पंचमी का पावन दिन है अतः आज के दिन इन दिव्य मन्त्रों से अगस्त्याय नमः पुलस्त्याय नमः भृगवे नमः रैभ्याय नमः च्यवनाय नमः व्यासाय नमः क्रतवे नमः पुलहाय नमः वशिष्ठाय नमः विश्वामित्राय नमः मरीचये नमः गौतमाय नमः शौनकाय नमः मनवे नमः वेदों और पुराणों की रचना करने वाले श्रेष्ठतम ऋषियों का वंदन करें I इससे शास्त्रों में, पुराणों में, वेदों में, आगम अर्थात तंत्र शास्त्र में मानव जीवन के कल्याण के लिए जिन-जिन मन्त्रों का, तंत्रों का, ऋचाओं का इन दिव्य ऋषियों के द्वारा निर्माण किया गया है उन सबका श्रेष्ठतम आशीर्वाद आपको प्राप्त होगा I ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा विधि

12 सितम्बर 2018 आज भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की तृतीय तिथि, चित्रा नक्षत्र, ब्रह्म योग, गर करण और दिन बुधवार है । आज हरितालिका तृतीया, गौरी तृतीया, श्रीवराह जयन्ती, कलंक चतुर्थी व पत्थर-चौथ है I आज के दिन माँ गौरी का लाल पुष्प, लाल चन्दन, रोली से रंगे चावल, श्रृंगार सामग्री से पूजन करें I इससे बच्चों को भगवान् गणेश सी बुद्धि, बड़ों को स्थिर और उन्नति से परिपूर्ण रोजगार, स्त्रियों को अखण्ड सुहाग और विवाह योग्य बच्चों को उत्तम जीवनसाथी की प्राप्ति होगी I चूँकि आज कलंक चतुर्थी भी है अतः आज के दिन चंद्रमा का दर्शन निषेध है अर्थात चंद्रमा दर्शन की मनाही है I आज के दिन चंद्रमा दर्शन से अपयश की प्राप्ति होती है I ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा विधि