Astro Product 0

Mahakaali Yantra

Rs. 150

Size : 0

Mahakaali Yantra

Goddess Kali in a fierce pose is deity of this Yantra. This Yantra is composed of a Central Point (bindu) within five inverted triangles, three circles, eight petals inside and outsides, whole Yantra enclosed in four doors. Believed to have occult powers, worship of this Yantra reverses the ill-effects of black magic, and frees a person from the bad influences of spirits & ghosts. This Yantra also eliminates the harmful effects of malefic planets, especially Saturn, which is usually responsible for misfortunes, sufferings and sorrows in life. Maa Kali is worshipped as Mother Goddess and a symbol of Shakti or Power/Strength that protects the world from evil with her eternal energy and cosmic power and helps to eliminate the dark side of life.

How to use

1.       Purify your body and start with a clear and positive mind frame

2.       Find a place on the floor facing East, where you will be undisturbe.

3.       Light the incense or lamp.

4.       Lay  fresh flower and fruit on the altar.

5.       Open the Yantra and place it with the image of the deity of yantra.

6.       Take the gangajal and sprinkle it on yourself followed by sprinkling the water on the Yantra.

7.       Close your eyes and concentrate on the deity to bless you with wishes.

Mantra: “ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महाकालिकायै नमः” I 

Qty.

Astro Sandesh

30 नवम्बर 2017 आज मार्गशीर्ष महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी तिथि, रेवती नक्षत्र, व्यतिपात योग, विष्टि करण और दिन गुरुवार है I आज मोक्षदा एकादशी व्रत, श्रीगीता जयंती एवं अखण्ड द्वादशी है I आज मोक्षदा एकादशी का बड़ा ही पावन और श्रेष्ठ दिन आज गीता जयंती है आज के दिन श्री कृष्ण भगवान् ने अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था. तो आइये आज के इस श्रेष्ठ दिन में पीले पुष्प और तुलसी पत्र भगवान् कान्हाजी के चरणों में अर्पित करें और घर में श्री मद्भाग्वद गीता जी की पुस्तक पर भी फूल चढ़ाएं और धूप- दीप दिखाएँ. संभव हो तो आज के दिन अधिक से अधिक गीता जी का पाठ करें और यदि पाठ कर पाना संभव न हो तो इस मन्त्र का आवश्य पाठ करें इसमें अर्जुन से अपने सारे बुद्धि विवेक को छोटा मानकर प्रभु के चरणों में अपने को पूर्ण समर्पित करके उनके शिष्य बन गए उसके बाद ही भगवान् श्री कृष्ण ने उन्हें गीता जी का अमूल्य ज्ञान दिया. कार्पण्यदोषोपहतस्वभावः पृच्छामि त्वां धर्मसम्मूढचेताः । यच्छ्रेयः स्यान्निश्चितं ब्रूहि तन्मे शिष्यस्तेऽहं शाधि मां त्वां प्रपन्नम्‌ ॥ आज इस श्रेष्ठ मन्त्र के पाठ से भगवान् श्री कृष्ण आपके द्वारा किये गए हर शुभ कर्म में आपके साथ होंगे और आपका जीवन सुखों और कल्याण की ओर अग्रसर होगा. साथ ही आज अखण्ड द्वादशी भी है अतः आज के दिन 1 फूल और किसी भी साबुत अन्न के 12 दानें भगवान् श्री कृष्ण या श्री विष्णु जी के चरणों में चढ़ायें और पायें अखण्ड सुख, अखण्ड शांति और अखण्ड संपदा. ...

astromyntra

आपके आज को श्रेष्ठ बनाने की पूजा-विधि